Today Diesel Price: आज भारत में डीजल की कीमत क्या है और कीमत बढ़ने के कारण क्या है

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

आज यानी 30 November 2023 तक भारत में डीजल की कीमत ₹89.62 प्रति लीटर है। यह कीमत मई 2022 के मध्य से अपरिवर्तित बनी हुई है। इस ब्लॉग पोस्ट में हम Today Diesel Price के साथ-साथ भारत में डीजल की कीमत बढ़ने के कारण क्या है यह नहीं जानेंगे। साथ ही आपको Today Gold Price क्या है यह भी जानना चाहिए।

Today Diesel Price

दोस्तों जैसा की मैंने आर्टिकल की शुरुवात में ही आपको बात दिया है की Today Diesel Price ₹89.62 प्रति लीटर है। और यह डीजल की कीमत हर शहर में अलग-अलग हो सकती है अभी हम एक Table के रूप में हर बड़े शहरों में Today Diesel Price क्या है यह भी जानेंगे।

लेकिन उससे पहले हम यह जानने का प्रयास करेंगे कि आखिरकार डीजल का उत्पादन कैसे होता है? और यह डीजल हम तक कैसे पहुंचता है और डीजल महंगा होने के क्या कारण है? और भी बहुत कुछ हम step-bystep जानेंगे।

मेरे शहर में Today Diesel Price क्या है

जैसा की मैंने बताया हर एक शहर में डीजल की कीमत अलग-अलग हो सकती है जिसे समझने के लिए हम एक Table का उपयोग कर रहें हैं जिससे हम बड़ी ही आसानी से मेरे शहर में Today Diesel Price क्या है समझ सकते हैं।

शहरडीजल कीमत (per liter)
Delhi₹89.62
Haryana₹90.29
Punjab₹89.04
Uttar Pradesh₹90.16
Mumbai₹94.27
Kolkata₹92.76
Chennai₹94.24
Bengaluru₹87.89
Hyderabad₹97.82
Ahmedabad92.09
Pune94.39
Jaipur92.51
Andhra Pradesh₹110.4
Assam₹96.01
Bihar₹107.2
Chhattisgarh₹102.4
Sikkim₹89.80
Tamil Nadu₹95.50
Telangana₹99.94
Tripura₹87.65

विदेशों में डीजल की कीमतें

निम्नलिखित तालिका कुछ प्रमुख देशों में डीजल की वर्तमान कीमतें दर्शाती है: भारत और विदेशों में आज सोने की कीमत क्या है यह भी देखे

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
देशडीजल की कीमत (USD/लीटर)
संयुक्त राज्य अमेरिका$ 5.61
चीन $ 7.32
जापान$ 1.37
जर्मनी$ 2.03
ब्राज़ील$ 6.25
दक्षिण अफ़्रीका$ 1.52

डीजल उत्पादन कहाँ होता है?

विश्व के शीर्ष डीजल उत्पादक हैं:

डीजल उत्पादन कहाँ होता है?
डीजल उत्पादन कहाँ होता है?
  1. चीन
  2. संयुक्त राज्य अमेरिका
  3. रूस
  4. भारत
  5. सऊदी अरब
अभी देखें  Today Gold Price: भारत और विदेशों में आज सोने की कीमत देख होंगे हैरान

2022 में वैश्विक डीजल उत्पादन 27.5 मिलियन बैरल प्रति दिन होने का अनुमान लगाया गया था।

डीजल का उत्पादन कैसे होता है?

डीजल ईंधन का उत्पादन भिन्नात्मक आसवन नामक प्रक्रिया के माध्यम से किया जाता है। कच्चे तेल को उच्च तापमान पर गर्म किया जाता है, जिससे यह वाष्पीकृत हो जाता है। कच्चे तेल के विभिन्न घटकों के क्वथनांक अलग-अलग होते हैं,

इसलिए वे अलग-अलग तापमान पर वाष्पीकृत हो जाते हैं। फिर वाष्प को संघनित किया जाता है और एकत्र किया जाता है , जिसके परिणामस्वरूप डीजल ईंधन सहित विभिन्न प्रकार के पेट्रोलियम उत्पाद तैयार होते हैं।

डीजल ईंधन के उत्पादन में शामिल विशिष्ट चरण इस प्रकार हैं:

  1. कच्चे तेल का नमक निकालना: कच्चे तेल को प्राकृतिक रूप से नमक और अन्य अशुद्धियों के साथ मिलाया जाता है। शोधन प्रक्रिया के दौरान, ये अशुद्धियाँ उपकरण को खराब कर सकती हैं और उत्पाद की गुणवत्ता को कम कर सकती हैं। इसलिए, कच्चे तेल को परिष्कृत करने से पहले नमक रहित करने की आवश्यकता होती है। अलवणीकरण में कच्चे तेल को पानी में मिलाना शामिल है ताकि नमक पानी में घुल जाए। फिर कच्चे तेल को पानी से अलग किया जाता है और नमक निकाल दिया जाता है।
  2. वायुमंडलीय आसवन: एक आसवन टॉवर में कच्चे तेल को लगभग 350°C (662°F) के तापमान तक गर्म किया जाता है। कच्चे तेल के हल्के घटक, जैसे गैसोलीन और नेफ्था, वाष्पीकृत हो जाते हैं और ऊपर आ जाते हैं टावर का। भारी घटक, जैसे डीजल ईंधन और ईंधन तेल, टावर के निचले भाग में रहते हैं। फिर वाष्प को संघनित और एकत्र किया जाता है, जिसके परिणामस्वरूप विभिन्न पेट्रोलियम उत्पाद बनते हैं।
  3. हाइड्रोट्रीटिंग: वायुमंडलीय आसवन से उत्पादित डीजल ईंधन में उच्च स्तर का सल्फर और अन्य अशुद्धियाँ होती हैं। ये अशुद्धियाँ इंजन की समस्याओं और उत्सर्जन का कारण बन सकती हैं। हाइड्रोट्रीटिंग एक ऐसी प्रक्रिया है जो डीजल ईंधन से इन अशुद्धियों को हटा देती है। हाइड्रोट्रीटिंग में, डीजल ईंधन को हाइड्रोजन और एक उत्प्रेरक के साथ मिश्रित। हाइड्रोजन अशुद्धियों के साथ प्रतिक्रिया करता है, उन्हें हानिरहित यौगिकों में परिवर्तित करता है।
  4. हाइड्रोक्रैकिंग: हाइड्रोक्रैकिंग एक ऐसी प्रक्रिया है जो बड़े हाइड्रोकार्बन अणुओं को छोटे अणुओं में तोड़ देती है। इस प्रक्रिया का उपयोग कच्चे तेल के भारी घटकों से डीजल ईंधन का उत्पादन करने के लिए किया जाता है। हाइड्रोक्रैकिंग में, भारी तेल को हाइड्रोजन और एक उत्प्रेरक के साथ मिलाया जाता है। हाइड्रोजन भारी तेल के साथ प्रतिक्रिया करता है, इसे छोटे अणुओं में तोड़ देता है। फिर छोटे अणुओं को अलग किया जाता है और एकत्र किया जाता है, जिसके परिणामस्वरूप डीजल ईंधन बनता है।
  5. सम्मिश्रण: डीजल ईंधन के उत्पादन में अंतिम चरण सम्मिश्रण है। सम्मिश्रण वांछित गुणों को प्राप्त करने के लिए डीजल ईंधन के विभिन्न घटकों को मिलाने की प्रक्रिया है। उदाहरण के लिए, सीटेन संख्या में सुधार के लिए सम्मिश्रण एजेंटों को जोड़ा जा सकता है या डीजल ईंधन के ठंडे प्रवाह गुण।
अभी देखें  Today Gold Rate in Ahmedabad: जाने 24ct Gold Price Today Gold Rate 22 carat के साथ

परिणामी डीजल ईंधन एक तेज़ गंध वाला एक स्पष्ट, रंगहीन तरल है। यह एक बहुमुखी ईंधन है जिसका उपयोग परिवहन, बिजली उत्पादन और हीटिंग सहित विभिन्न अनुप्रयोगों में किया जाता है।

डीजल महंगा होने के क्या कारण है?

डीजल की कीमत कारकों की जटिल परस्पर क्रिया से प्रभावित होती है, जिसमें वैश्विक कच्चे तेल की कीमतें, रिफाइनिंग लागत, परिवहन लागत, कर और सरकारी नीतियां शामिल हैं।

डीजल महंगा होने के क्या कारण है?
डीजल महंगा होने के क्या कारण है?

यहां कुछ प्रमुख कारक दिए गए हैं जो डीजल की कीमतों में वृद्धि में योगदान कर सकते हैं:

  • कच्चे तेल की कीमतें: कच्चा तेल डीजल को परिष्कृत करने के लिए प्राथमिक इनपुट है, और इसकी कीमत में उतार-चढ़ाव डीजल की अंतिम लागत पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालता है। जब कच्चे तेल की कीमतें बढ़ती हैं, तो डीजल उत्पादन की लागत भी बढ़ जाती है, जिससे पंप पर कीमतें बढ़ जाती हैं।
  • शोधन लागत: शोधन प्रक्रिया में कच्चे तेल को डीजल सहित विभिन्न पेट्रोलियम उत्पादों में परिवर्तित करना शामिल है। रिफाइनिंग की जटिलता और संबंधित लागत डीजल की कीमतों को प्रभावित कर सकती है। यदि तकनीकी प्रगति या परिचालन चुनौतियों के कारण रिफाइनिंग लागत बढ़ती है, तो डीजल की कीमत भी बढ़ सकती है।
  • परिवहन लागत: डीजल को रिफाइनरियों से वितरण केंद्रों और अंततः खुदरा दुकानों तक पहुंचाया जाता है। ईंधन शुल्क, श्रम लागत और बुनियादी ढांचे के रखरखाव सहित परिवहन की लागत, डीजल की अंतिम कीमत को प्रभावित कर सकती है। यदि ईंधन की कीमतों में बढ़ोतरी या श्रम की कमी जैसे कारकों के कारण परिवहन लागत बढ़ती है, तो डीजल की कीमतें भी बढ़ सकती हैं।
  • कर और सरकारी नीतियां: सरकारें अक्सर डीजल पर कर और शुल्क लगाती हैं, जो उपभोक्ताओं द्वारा भुगतान की जाने वाली अंतिम कीमत पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकता है। कर दरों में बदलाव या नए करों के लागू होने से डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी हो सकती है। इसके अतिरिक्त, ईंधन सब्सिडी, पर्यावरण नियम और रणनीतिक भंडार से संबंधित सरकारी नीतियां डीजल की कीमतों को प्रभावित कर सकती हैं।
  • आपूर्ति और मांग की गतिशीलता: आपूर्ति और मांग के बीच संतुलन डीजल की कीमतें निर्धारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यदि डीजल की मांग आपूर्ति से अधिक हो जाती है, तो कीमतें बढ़ जाती हैं। यह बढ़ती आर्थिक गतिविधि, मांग में मौसमी बदलाव या आपूर्ति श्रृंखला में व्यवधान जैसे कारकों के कारण हो सकता है।
  • भूराजनीतिक घटनाएँ: भूराजनीतिक घटनाएँ, जैसे कि संघर्ष, प्रतिबंध, या प्राकृतिक आपदाएँ, तेल उत्पादन या आपूर्ति श्रृंखला को बाधित कर सकती हैं, जिससे वैश्विक तेल बाजार में कीमतों में अस्थिरता पैदा हो सकती है। इससे डीजल की कीमत पर असर पड़ सकता है।
अभी देखें  Silver Price Today in Ahmedabad: 2 Jan 2024 चांदी रेट मे आई उछाल बढ़ा 300 रुपये दाम

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ये कारक अक्सर एक-दूसरे से संपर्क करते हैं और एक-दूसरे को प्रभावित करते हैं, जिससे किसी विशिष्ट मूल्य वृद्धि के सटीक कारण को अलग करना चुनौतीपूर्ण हो जाता है। हालाँकि, इन अंतर्निहित कारकों को समझने से डीजल मूल्य निर्धारण की गतिशीलता में मूल्यवान अंतर्दृष्टि मिल सकती है।

भारत में डीजल की कीमत बढ़ने के कारण क्या है

भारत में डीजल की कीमतों को प्रभावित करने वाले कारकों में शामिल हैं:

  • वैश्विक कच्चे तेल की कीमतें
  • रुपया-डॉलर विनिमय दर
  • सरकार द्वारा लगाए गए कर और शुल्क

सबसे ज्यादा डीजल की खपत कहाँ होती है?

विश्व के शीर्ष डीजल उपभोक्ता हैं:

सबसे ज्यादा डीजल की खपत कहाँ होती है?
सबसे ज्यादा डीजल की खपत कहाँ होती है?
  1. चीन
  2. संयुक्त राज्य अमेरिका
  3. भारत
  4. रूस
  5. जापान

2022 में वैश्विक डीजल खपत 26.8 मिलियन बैरल प्रति दिन होने का अनुमान लगाया गया था।

डीजल का भविष्य

डीजल का भविष्य अनिश्चित है. एक ओर, डीजल अपेक्षाकृत स्वच्छ जलने वाला ईंधन है जो कुशल है और इसमें उच्च ऊर्जा घनत्व है। दूसरी ओर, डीजल इंजन नाइट्रोजन ऑक्साइड (एनओएक्स) और पार्टिकुलेट मैटर (पीएम) उत्सर्जित करते हैं, जो मानव स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं।

डीजल का भविष्य
डीजल का भविष्य

हाल के वर्षों में इलेक्ट्रिक वाहनों के इस्तेमाल की ओर रुझान बढ़ा है। हालाँकि, आने वाले कई वर्षों तक परिवहन क्षेत्र के लिए डीजल एक महत्वपूर्ण ईंधन बने रहने की संभावना है।

निष्कर्ष

डीजल एक महत्वपूर्ण ईंधन है जो वैश्विक अर्थव्यवस्था में प्रमुख भूमिका निभाता है। डीजल की कीमत वैश्विक कच्चे तेल की कीमतों, विनिमय दरों और सरकारी नीतियों सहित कई कारकों से प्रभावित होती है। डीजल का भविष्य अनिश्चित है, लेकिन आने वाले कई वर्षों तक परिवहन क्षेत्र के लिए यह एक महत्वपूर्ण ईंधन बने रहने की संभावना है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment

आप MobiYojna.com के साथ नवीनतम अपडेट के बारे में सूचित रहें। हम आगामी सरकारी योजना और Latest खबरे जैसे सरकारी Job रिक्तियों, आवेदन की समय सीमा, परीक्षा कार्यक्रम से जुड़ी सटीक जानकारी प्रदान करते हैं।

Note: अपने सभी पाठको से विनम्र अनुरोध करते है कि, आप mobiyojna.com  पर दी गई किसी भी जानकारी के संबंध मे कोई भी बड़ा कदम उठाने से पहले उस खबर की अपने स्तर पर सत्ययता / Authentication  की जांच अवश्य करें।